असम विधानसभा चुनाव : अपने इस अंदाज से कांग्रेस को कितनी सीटें दिला पाएगी प्रियंका ?

चाय बागान के मजदूरों का के मुद्दे असम चुनावों में अहम रहते है, ऐसे में चाय मजदूरों से प्रियंका की मुलाकात भी अहम मानी जा रही है

असम विधानसभा चुनाव : अपने इस अंदाज से कांग्रेस को कितनी सीटें दिला पाएगी प्रियंका ?

असम में कांग्रेस की सत्ता वापसी कराने में जुटी प्रियंका गांधी वाड्रा का जादू किस हद तक चलेगा यह तो चुनावी नतीजों के बाद ही पता चलेगा, लेकिन इतना तय है कि वे मतदाताओं से संवाद स्थापित करने में अपने भाई से दो कदम आगे ही हैंअपने दो दिन के चुनावी प्रचार में प्रियंका ने राजनीतिक मुद्दों के साथ ही धर्म, संस्कृति, लोक परंपरा जैसे तमाम पहलुओं को छूते हुए वहां के लोगों का दिल जीतने की भरसक कोशिश की हैसुरक्षा व शर्म की परवाह किए बगैर लोगों के बीच जाकर उनमें घुल-मिल जाने की उनकी अदा महिलाओं व युवाओं को प्रभावित अवश्य ही करती हैखेर यह बात अलग है कि प्रियंका का यह प्रभाव कांग्रेस को वोटों में कितना काम आता है

कामख्या देवी मंदिर के दर्शन से अपने चुनावी प्रचार की शुरुआत करके प्रियंका ने फिर से ये संदेश दिया है कि वे नरम हिंदुत्व की राह पर ही चलने में विश्वास रखती हैंजनसभाओं में जहां उन्होंने नागरिकता कानून संशोधन यानी सीएए और असम की पहचान जैसे मुद्दे उठाकर प्रधानमंत्री व बीजेपी पर निशाना साधा, तो वहीं आदिवासी महिलाओं के साथ पारंपरिक झूमुर नृत्य पर थिरकते हुए अपनी सादगी का परिचय दिया

चाय बागान की महिला श्रमिकों से मुलाकात के वक्त उनके साथ ही जमीन पर बैठकर उनकी समस्याएं सुनते हुए उन्हें अपनेपन का अहसास कराना भी उनके प्रचार की कला माना जाना चाहिएयहां भी वे अलग अंदाज में दिखाई दीं, टोकरी लेकर मजदूरों की तरह चाय की पत्तियां तोड़ती हुईं नजर आई

प्रियंका ने अपने ट्वीट में लिखा, ''असम की बहुरंगी संस्कृति ही असम की शक्ति है असम यात्रा के दौरान लोगों से मिलकर महसूस किया कि लोग इस बहुरंगी संस्कृति को बचाने के लिए वे पूरी प्रतिबद्धता से तैयार हैंअपनी संस्कृति और विरासत बचाने के लिए असम के लोगों की लड़ाई में कांग्रेसी पार्टी उनके साथ है'' इस बार असम में रोजगार भी एक प्रमुख चुनावी मुद्दा है, इसलिये प्रियंका ने अपनी सभाओं में इसे उछालते हुए बीजेपी सरकार को घेरा हैकांग्रेस ने पूरे राज्य में इस मुद्दे पर सरकारी दफ्तरों के बाहर प्रदर्शन करने की रणनीति बनाई है, जो सर्वानंद सोनोवाल सरकार के लिए परेशानी का सबब बन सकता है